शुक्रवार, 13 जनवरी 2012

अगर इस दुनिया में
कोई हिन्दू न होता ,
कोई मुस्लमान न होता ,
कोई इसाई न होता ,
कोई धर्म न होता ,
केवल मानव होता ,
केवल इंसान होता ,
इंसानियत होती ,
मानवता होती ,
तो कैसा लगता ,
सोचो सोचो सोचो

1 टिप्पणी:

kalpesh sorthiya ने कहा…

Shivlok Sir.... Nice Poem